"सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मेरे माता-पिता ने मुझे स्वीकार कर लिया है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि समाज क्या कहता है": पारिवारिक अनुभवों पर 'ऑवर हेल्थ मैटर्स' की रिपोर्ट

लेखक : आकांक्षा आर्यल, साहिल जमाल सिद्दीकी, विहान वी, नियॉर, हीथर सैंटोस, एडेन स्कीम


दुनिया कह सकती है, 'अगर आपको अपने परिवार से समर्थन नहीं मिलता है, तो हमें आपका समर्थन क्यों करना चाहिए?'। दुनिया परिवार से शुरू हो सकती है। यदि आपके माता-पिता आपके साथ हैं, तो फिर इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता है कि आप के दोस्त, गर्लफ्रेंड, या बॉयफ्रेंड आपके साथ हैं या नहीं।


अवर हेल्थ मैटर्स

ऑवर हेल्थ मैटर्स भारत में ट्रांस पुरुषों और ट्रांसमर्दाना लोगों के स्वास्थ्य का एक समुदाय आधारित सहभागी शोध अध्ययन है। यह अध्ययन समाज में ट्रांस मर्दाना लोगों के अनुभव, और वे हमारे स्वास्थ्य एवं कल्याण को कैसे प्रभावित करते हैं, का पता लगाने और उन पर ध्यान आकर्षित करने के लिए गुणात्मक (गहन साक्षात्कार) और मात्रात्मक (सर्वेक्षण) विधियों का उपयोग करता है। इस परियोजना का नेतृत्व ट्रांसमर्दाना व्यक्तियों की एक संचालन समिति और ड्रेक्सेल विश्वविद्यालय (फिलाडेल्फिया, यूएसए), पॉप्युलेशन काउंसिल (नई दिल्ली), एवं भारत, कनाडा और संयुक्त राज्य अमेरिका के अन्य संगठनों के ट्रांस और गैर-ट्रांस शोधकर्ताओं की एक टीम ने किया है। परियोजना के अन्य भागीदारों के रूप में ट्वीट फाउंडेशन और ट्रांसमेन कलेक्टिव शामिल हैं। अध्ययन टीम के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें।


पृष्ठभूमि

परिवार का समर्थन सभी उम्र के ट्रांस* और गैर-बाइनरी लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पारिवारिक समर्थन सामाजिक कलंक के नकारात्मक प्रभावों के खिलाफ उनकी सुरक्षा करने में मदद कर सकता है और कुल मिलाकर स्वास्थ्य और कल्याण को सकारात्मक रूप से प्रभावित करता है। उदाहरण के लिए, उत्तरी अमेरिका में ट्रांस वयस्कों और युवा लोगों के बीच किए गए अध्ययनों में पाया गया है कि जेंडर संबंधित परिवार का समर्थन बेहतर मानसिक स्वास्थ्य, और जीवन की उच्च गुणवत्ता, एवं लचीलेपन के उच्च स्तर से संबंधित है।. , इसके विपरीत, परिवारों द्वारा किया गया जेंडर संबंधित भेदभाव बढ़े हुए मनोवैज्ञानिक संकट संबंधित है।1

कुछ अध्ययनों ने भारत में ट्रांस व्यक्तियों के पारिवारिक अनुभवों का पता लगाया है। भारत में ट्रांस पुरुषों पर ध्यान केंद्रित करने वाले एक हालिया गुणात्मक अध्ययन में पाया गया कि प्रतिभागियों ने किशोरावस्था में अपनी निर्धारित जेंडर भूमिका के अनुरूप व्यवहार करने के लिए पारिवारिक दबाव का अनुभव करना शुरू किया, और उन्हें अक्सर घर पर अपनी जेंडर पहचान को छुपाना पड़ा, जिसने तनाव को बढ़ाया। ज्यादातर लोगों ने जब उनकी जेंडर पहचान का खुलासा किया तो उन्हें नकारात्मक प्रतिक्रियाओं का सामना करना पड़ा, जिसमें कभी-कभी मौखिक या शारीरिक हिंसा भी शामिल थी। अपने दैनिक जीवन में परिवार का समर्थन न मिलने, मिसजेंडरिंग और आज़ादी न मिलने के कारण, कुछ प्रतिभागियों ने पारिवारिक घर को छोड़ दिया या इसे बर्दाश्त करने के लिए शराब या नशीली दवाओं का सहारा लिया। हालांकि, कुछ प्रतिभागियों ने बताया कि उनके खुलासे पर परिवार के कुछ सदस्यों ने सकारात्मक रूप से प्रतिक्रिया व्यक्त की, या उनके प्रति परिवार की स्वीकार्यता समय के साथ बढ़ी है। भारत में ट्रांस महिलाओं पर किये गए शोध ने परिवार के साथ अनुभवों की जटिलता को भी उजागर किया है। उदाहरण के लिए, कुछ ने माता-पिता से सशर्त स्वीकृति मिलने की बात कही, जिन्होंने निजी तौर पर उनकी जेंडर पहचान को स्वीकार कर लिया लेकिन ट्रांसजेंडर साथियों या पड़ोसियों के साथ उनकी बातचीत पर, घर के बाहर पसंदीदा कपड़े पहने पर, या चिकित्सीय रूप से लिंग परिवर्तन करने पर प्रतिबंध लगा दिया।

यह रिपोर्ट ट्रांस पुरुषों और ट्रांस मर्दाना व्यक्तियों के बीच पारिवारिक समर्थन और अस्वीकृति के अनुभवों पर केंद्रित है जिन्होंने ऑवर हेल्थ मैटर्स, एक समुदाय-आधारित शोध अध्ययन के हिस्से के रूप में साक्षात्कारों में भाग लिया। अवर हेल्थ मैटर्स, a community-based research study.


हमने किससे बात की?

हमने 40 ट्रांस पुरुषों से बात की जिनकी उम्र 20- 50 (औसतन = 28) के बीच थी और जो भारत के 10 राज्यों में रहते थे। प्रतिभागियों ने अलग-अलग सामाजिक-आर्थिक, जातीय और धार्मिक पृष्ठभूमि के साथ स्वयं की पहचान की। सभी साक्षात्कार हिंदी या मराठी में आयोजित किए गए थे।

हमने अपने आंकड़े कैसे एकत्र और विश्लेषित किये?

ऑवर हेल्थ मैटर्स के पहले चरण में, सहकर्मी शोधकर्ताओं (ट्रांस पुरुषों) द्वारा जुलाई और अगस्त 2021 में एक अर्ध-संरचित साक्षात्कार मार्गदर्शिका का पालन करते हुए, टेलीफोन या वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से गहन साक्षात्कार आयोजित किए गए थे। साक्षात्कारों को ऑडियो-रिकॉर्ड किया गया, ट्रांसक्रिप्ट किया गया और फिर अंग्रेजी में अनुवाद किया गया। साक्षात्कार गाइड परिवार के अनुभवों, सामाजिक और सामुदायिक समर्थन, भेदभाव और सुरक्षा के अनुभव, मानसिक स्वास्थ्य और स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं तक पहुंच पर केंद्रित है।

साक्षात्कार ट्रांस्क्रिप्ट का विश्लेषण टीम के चार सदस्यों द्वारा गया किया जिन्हें गुणात्मक डेटा विश्लेषण का पूर्व अनुभव था। संचालन समिति के सदस्यों ने डेटा की व्याख्या करने और इस रिपोर्ट को लिखने में भाग लिया। अतिरिक्त संदर्भ प्रदान करने के लिए, हम उद्धृत प्रत्येक प्रतिभागी के लिए कुछ उपलब्ध जनसांख्यिकीय विवरण (आयु, स्थान, धर्म, जाति) प्रदान करते हैं।


हमने क्या निष्कर्ष प्राप्त किये?

सारांश

बचपन के दौरान अपने परिवारों के साथ प्रतिभागियों के अनुभव विविधतापूर्ण थे, अपनी ट्रांस पहचान का खुलासा करने पर, एवं सामाजिक रूप से और / या चिकित्सकीय रूप से ट्रांजीशन के बाद, यद्यपि हम इस रिपोर्ट में स्वीकृति और अस्वीकृति के बारे में अलग- अलग परिणाम प्रस्तुत करते हैं, प्रतिभागियों ने अक्सर समय के साथ परिवार के समर्थन में बदलाव का अनुभव किया है: 

शुरुआत में, वे इसे बहुत स्वीकार कर रहे थे। मैं हमेशा से अपना जेंडर बदलना चाहता था, वे हमेशा कहते थे कि तुम आज़ाद हो, तुम जो भी करना चाहते हो, इसलिए वे इसे स्वीकार कर रहे थे। हालाँकि, जब मैंने ट्रांजीशन शुरू किया, और परिवर्तन होने लगे, तो वे उन परिवर्तनों की तीव्रता को नहीं समझ पाए जिनसे मैं गुज़र रहा था और वे मेरी उपेक्षा करने लगे और मुझे उस समय वह समर्थन नहीं मिला जिसकी मुझे आवश्यकता थी। (23, हैदराबाद, हिंदू)

मेरे परिवार को यह पसंद नहीं आया... मुझे उन्हें समझाने में दो साल लग गए। दो साल बाद उन्होंने मुझे हां कहा। अब मुझे मेरे पिता, माँ और मेरी विवाहित बहन का पूरा समर्थन है। (25, मुंबई, हिंदू, ओबीसी)

इसके अलावा, प्रतिभागियों ने परिवार के विभिन्न सदस्यों जैसे माता-पिता, भाई-बहन और रिश्तेदारों के समर्थन के स्तरों में विभिन्नता के बारे में बताया :

मेरी बड़ी बहन मेरे लिए मेरी मां के समान है। वह यह सब समझ रही थी। उसने कहा, "तुम आगे जो भी करोगे, उसमें मैं तुम्हारा समर्थन करूंगी"। (28, बांद्रा, हिंदू, ओबीसी)

मेरे एक चाचा हैं जिन्होंने सर्जरी में मेरा साथ दिया है। (45, मुंबई, हिंदू, ओबीसी)

इस रिपोर्ट में, हम बात करते हैं कि प्रतिभागियों द्वारा परिवार की स्वीकृति और अस्वीकृति का अनुभव कैसे किया गया और इसने उनके कल्याण को कैसे प्रभावित किया। पारिवारिक स्वीकृति की अभिव्यक्तियों में जेंडर अभिव्यक्ति (उदाहरण के लिए, कपड़ों की पसंद) साथ हस्तक्षेप नहीं करना, चिकित्सा प्रक्रियाओं तक पहुंचने या उसके बाद देखभाल करने में सहायता, और प्रतिभागी की पहचान, चुने हुए नाम और सर्वनाम की पुष्टि करना शामिल है। पारिवारिक अस्वीकृति की अभिव्यक्तियों में जनाना लैंगिक अभिव्यक्ति को बनाए रखने या शादी करने का दबाव, "कन्वर्जन थेरैपी" की कोशिश, या ट्रांजीशन के लिए परिवार का घर छोड़ने के लिए मजबूर करना शामिल था। कुछ प्रतिभागी उन प्रतिबंधों के कारण अपने जेंडर या ट्रांजीशन को व्यक्त करने के लिए स्वतंत्र नहीं थे जो उन पर लगाए गए थे क्योंकि लोगों ने उन्हें जन्म के समय लड़की का लेबल दिया था। जबकि पारिवारिक अस्वीकृति का प्रतिभागियों पर बहुत नकारात्मक प्रभाव पड़ा। परिवार के समर्थन ने उनके मानसिक स्वास्थ्य में सुधार किया और रिश्तेदारों और व्यापक समुदाय से स्वीकृति दिलायी। 

अंत में, इन निष्कर्षों के आधार पर, हम भारत में ट्रांस पुरुषों और ट्रांसमर्दाना लोगों के लिए पारिवारिक समर्थन बढ़ाने हेतु भविष्य के अनुसंधान और कार्यक्रमों के लिए सिफारिश करते हैं।

परिवार की स्वीकृति

कुछ परिवारों ने अपने ट्रांसमर्दाना रिश्तेदार की जेंडर अभिव्यक्ति (जैसे, कपड़े, बालों के ढंग) का सक्रिय रूप से समर्थन करके या उनकी पसंद में हस्तक्षेप न करके स्वीकृति का प्रदर्शन किया। इन परिवार के सदस्यों ने प्रतिभागियों को वैसे ही स्वीकार किया जैसे वे बचपन से अक्सर होते हैं। कुछ मामलों में, परिवार के सदस्यों ने प्रतिभागी की जेंडर अभिव्यक्ति में बदलाव पर सवाल न उठाकर चुपचाप स्वीकृति दिखाई।

उन्होंने मुझे कभी लड़कियों के कपड़े पहनने या लड़कियों के खेल खेलने के लिए नहीं कहा और मुझे कभी नहीं रोका। उन्होंने मुझे मेरी इच्छा के अनुसार अपना हेयर स्टाइल रखने दिया। (23, दिल्ली, हिंदू, ओबीसी)

इतना ही नहीं, हमारे पापा भी समझ गए थे कि अब मुझे लड़कियों की तरह रहना पसंद नहीं है। मेरे पहले लंबे बाल थे। मैंने अपने जन्मदिन पर अपने बाल कटवाए। किसी ने नहीं पूछा कि मैंने अपने बाल क्यों कटवाए। (25, कानपुर, हिन्दू)

परिवार के सदस्यों ने भी सही नाम, सर्वनाम और सम्बोधन का उपयोग करने की कोशिश करके स्वीकृति दिखाई। कुछ मामलों में, परिवार के सदस्य शुरू में झिझक रहे थे लेकिन समय के साथ सही नाम, सर्वनाम और सम्बोधनों का उपयोग करना शुरू कर दिया। correct names, pronouns, and titles. In some cases, family members were initially hesitant but started using correct names, pronouns, and titles over time.

वे मेरे साथ एक लड़के के रूप में बात करने की कोशिश करते हैं। वे धीरे-धीरे कोशिश कर रहे हैं। (30, मुंबई, हिंदू, ओबीसी)

मेरे भाई ने मुझे पूरे दिल से स्वीकार किया। तब से ही वह मुझे भाई कहने लगा। (23, मुंबई, क्रिश्चियन)

ट्रांजीशन प्रक्रिया में सहायता परिवार के समर्थन का एक महत्वपूर्ण रूप था। कुछ परिवारों ने वित्तीय सहायता प्रदान की, जबकि अन्य जो पैसे देने की स्थिति में नहीं थे, उन्होंने देखभाल प्रदान करके और चिकित्सा प्रक्रियाओं के लिए शारीरिक रूप से उपस्थित होकर अपना समर्थन दिखाया। प्रतिभागियों ने इस प्रकार के समर्थन के लिए खास तौर से तारीफ़ की।

मैंने उससे सिर्फ इतना कहा कि मैं यह करने जा रहा हूं, तब मेरी मां ने कहा, "यह तुम्हारी जिंदगी है, तुम्हें पता है कि तुम कैसे जीना चाहते हो। यह सब तुम पर निर्भर है।" तो उसने मुझसे कहा कि जब मेरा ऑपरेशन होगा तो मुझे उसे फोन करना चाहिए, और वह आ जाएगी। (24, दिल्ली, हिंदू)

जब मैंने अपनी हार्मोन थेरेपी शुरू की, तो मैं बहुत बीमार हो गया और मेरी भूख कम हो गई। मेरे माता-पिता ने मेरी अच्छी तरह देखभाल की और मुझे बहुत सहारा दिया। उन्होंने कहा कि वे आर्थिक रूप से मेरा समर्थन नहीं कर सकते, लेकिन वे मेरे साथ रहेंगे। और मैं जो चाहूं वो कर सकता हूं। (22, जमशेदपुर, हिन्दू)

कुछ माता-पिता ने अपने ट्रांसमर्दाना बच्चों पर गर्व जताया और ट्रांजीशन शुरू करने के बाद वे उसके असर देखकर खुश थे।

माँ कहती हैं कि मैं जिस चीज से खुश हूं, उसमें वे भी खुश हैं। पापा भी अक्सर कहते थे, 'मेरी एक लड़की है', लेकिन अब वह मुझे एक लड़के के रूप में देखते हैं, और कहते हैं कि मैं उसका बेटा हूँ। (30, नागपुर, हिंदू, ओबीसी)

मेरी माँ ने हमारे सभी रिश्तेदारों को बताया कि मैंने क्या किया है। मेरी माँ को मुझ पर गर्व है। मेरी मां कहती हैं, ''मेरा बच्चा दूसरे बच्चों की तरह भागा नहीं. कोई गलत काम नहीं किया।" (20, मुंबई, हिंदू, एसटी)

परिवार की अस्वीकृति

परिवार के सदस्यों ने अक्सर प्रतिभागियों पर जन्म के समय लड़की के रूप में माने गए लोगों के लिए निर्धारित सामाजिक अपेक्षाओं का पालन करने के लिए दबाव डाला या उन्हें मजबूर किया, जिसमें लड़कियों की तरह कपड़े पहनना, घर पर रहना और एक सिजेंडर (गैर-ट्रांस) पुरुष से शादी करना शामिल है। यह दबाव बचपन में शुरू हुआ लेकिन कुछ प्रतिभागियों के लिए वयस्कता में जारी रहा। प्रतिभागियों ने अपने ज़िन्दगी को अपनी मर्ज़ी से न जी पाने और परिवार के सदस्यों द्वारा लगातार दबाव डालने जैसी परिस्थितियों के साथ संघर्ष किया।

वे पल मेरे लिए बहुत कठिन थे, क्योंकि मुझ पर शादी करने का पारिवारिक दबाव था और मैं अभी-अभी ब्रेकअप से गुज़रा था। (50, गुवाहाटी)

वे मुझे एक लड़की की तरह समझते हैं और लड़कियों को बाहर नहीं जाना चाहिए। लड़कियों को मेकअप करना चाहिए और उन्हें मेरे जैसे कपड़े नहीं पहनने चाहिए। मैं अपनी ज़िन्दगी उस तरह से नहीं जी सकता जैसे मैं चाहता हूं इसलिए मैं थोड़ा परेशान हूं और अपनी भावनाओं को नियंत्रित करने की कोशिश करता हूं ताकि एक दिन वे फट न जाएं। (29, लखनऊ, हिन्दू)

परिवार के सदस्यों द्वारा उनकी जेंडर पहचान से इनकार करने या उनके ट्रांजीशन को स्वीकार करने से इनकार करने के कारण कुछ प्रतिभागियों को अपनी ट्रांजीशन प्रक्रिया शुरू करने के लिए अपने पारिवारिक घरों को छोड़ना पड़ा। अन्य मामलों में, प्रतिभागी के परिवारों ने उनके ट्रांजीशन का पूरी तरह से विरोध नहीं किया, लेकिन वित्तीय सहायता प्रदान करने से इनकार कर दिया, भले ही वे ऐसा करने में आर्थिक रूप से सक्षम हों।

यहाँ मत रहो और जो कुछ तुम करना चाहते हो वह करो [उन्होंने कहा]। तुम्हें गाँव छोड़ना पड़ेगा... तुम बाहर जाओ, अपना सर्वश्रेष्ठ करो, अपने पैसे का इस्तेमाल करो, लेकिन यहाँ रह कर यह सब मत करो। अगर तुम गंजा होना चाहते हो, तो शहर से बाहर जाओ और करो। (25, वाशिम, हिंदू, ओबीसी)

जब मैंने ट्रीटमेंट शुरू किया तो मेरा परिवार मेरी मदद कर सकता था, लेकिन सब कुछ मैनें सम्भाला। वे मेरे साथ हैं लेकिन उनकी एक शर्त है कि 'तुम जो कुछ भी खर्च करो वह अपने दम पर करो'। (25, मुंबई, हिंदू, ओबीसी)

कुछ प्रतिभागियों ने महसूस किया कि आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर होने से उनके परिवार की प्रतिक्रिया बदल सकती है। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर होने से वे ट्रांजीशन के सभी खर्चों को वहन करने में सक्षम होंगे और यह परिवार के अधिक समर्थन प्राप्त करने की संभावना को बढ़ाता है।

मैंने उन्हें सर्जरी के बारे में बताया, लेकिन वे इसके लिए तैयार नहीं हैं क्योंकि हर माता-पिता अपने बच्चे के लिए डरते हैं। अभी, वे इसका समर्थन नहीं कर रहे हैं, और शायद भविष्य में, अगर मैं आत्मनिर्भर हो गया, तो वे मेरा समर्थन करेंगे। (23, दिल्ली, हिंदू, ओबीसी)

कुछ प्रतिभागियों को उनके परिवारों द्वारा "कनवर्ज़न थेरैपी" के लिए ले जाया गया, जिसमें डॉक्टरों या धार्मिक/आध्यात्मिक गुरुओं ने उनकी जेंडर पहचान को बदलने का प्रयास किया या उन्हें जन्म के समय निर्धारित किये गए जेंडर के साथ खुद की पहचान करने के लिए मनाने का प्रयास किया। कुछ मामलों में, परिवार के सदस्यों ने प्रतिभागियों को हार्मोन या अन्य दवाएं लेने के लिए जबरन मज़बूर करने की कोशिश की। एक प्रतिभागी ने बताया कि जब उसे कनवर्ज़न थेरैपी के लिए ले जाने पर भी कुछ नहीं बदला तो परिवार ने उसे घर से बाहर निकाल फेंका।

मेरे परिवार ने जबरन कोशिश की कि मैं एक लड़की की तरह रहूँ और उन्होंने मुझे लगभग 4 से 5 महीने तक दवाएं लेने के लिए मजबूर किया। (22, जमशेदपुर, हिन्दू)

वे मुझे इलाज के लिए मेरे घर से लगभग 2 से 3 किमी दूर एक मनोचिकित्सक के पास ले गए। मेरा मामला सुनने के बाद डॉक्टर की प्रतिक्रिया बहुत ही अजीब और नकारात्मक थी। उसने उनसे कहा कि मैं मानसिक रूप से बीमार हूं और मेरी समस्या को ठीक करने के लिए मुझे स्त्री हार्मोन दिया जाना चाहिए। (22, जमशेदपुर)

जब मैंने उन्हें बताया, तो उन्होंने सोचा कि मुझ पर कोई भूत सवार है, और मुझे बाबा (जादूगर) के पास ले गए। वहां कुछ नहीं हुआ। हम बाद में ब्राह्मण (पुजारी) के पास गए, वहां भी कुछ नहीं हुआ। उसके बाद मुझे थोड़ा मारा पीटा गया। ऊब कर उन्होंने मुझे घर से बाहर निकाल दिया। (20, मुंबई, हिंदू, एसटी)

परिवार के अन्य सदस्यों, रिश्तेदारों और समाज से अस्वीकृति और कलंक के डर ने परिवार के कुछ सदस्यों को सार्वजनिक रूप से ट्रांसमर्दाना व्यक्ति को अस्वीकार करने के लिए प्रेरित किया, भले ही वे निजी तौर पर स्वीकार कर रहे हों। परिवार के ये सदस्य इस बात को लेकर चिंतित थे कि यदि वे खुले तौर पर प्रतिभागी की जेंडर पहचान या ट्रांजीशन को स्वीकार करते हैं तो उनके साथ कैसा व्यवहार किया जाएगा। एक प्रतिभागी ने गलत जेंडर व्यवहार किये जाने से होने वाले दर्द के कारण पारिवारिक आयोजनों में जाने से बचने की बात कही।

 मेरे माता-पिता ने मुझे इस तरह के रहन सहन को बंद करने के लिए मनाने की कोशिश की और कहा कि हम बहुत गरीब लोग हैं और उन्होंने मेरी बड़ी बहनों और जीजा को भी यह समझाया। इसे कोई भी नहीं समझेगा [उन्होंने कहा]। (22, जमशेदपुर, हिन्दू)

जब कोई नया व्यक्ति आता है, तो मेरे परिवार वाले मुझे लड़की बुलाते हैं और कहते हैं कि मैं उनकी बेटी हूं। जब वे मुझे देखते हैं तो मुझे बहुत बुरा लगता है और मैं मानसिक रूप से परेशान हो जाता हूं, इसलिए मैं वहां से चला जाता हूं। मुझे यह पसंद नहीं है। अगर हमारे परिवार में कोई आयोजन होता है तो मैं उसमें शामिल होने से बचता हूं। उन्होंने मुझे स्वीकार किया है, लेकिन वे मुझे अन्य लोगों के सामने स्वीकार नहीं करते हैं। (26, मुंबई, हिंदू)

कुछ प्रतिभागियों को परिवार के सदस्यों के हाथों मौखिक दुर्व्यवहार या शारीरिक हिंसा का सामना करना पड़ा जब उन्होंने अपनी जेंडर पहचान का खुलासा किया या अपनी शर्तों पर अपने जेंडर को व्यक्त करने की कोशिश की।

एक बार मैंने अपने पिता से बात करने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने भी उसी तरह जवाब दिया। उसने मुझसे कहा कि, क्या तुम्हारा दिमाग खराब हो गया है? और उन्होंने थोड़ा हिंसक व्यवहार किया। मेरे पिता कहने लगे, “यहाँ से चले जाओ। मैंने हमेशा तुम्हारी ज़रूरत के हिसाब से तुम्हे सब कुछ दिया है। मुझे नहीं पता कि तुम हमसे और क्या चाहते हो।" ये सारी बातें उन्होंने चिल्लाते हुए कही। (23, बिजनौर, हिंदू, ओबीसी)

जब मैं अक़्सर शर्ट और पैंट पहनता था तो वे मुझे मारते और डांटते थे। मेरी बहुत पिटाई हुई है, और मैं इतना मजबूत और ढीठ हो गया था कि मुझे परवाह नहीं है कि कोई मुझे अब और मारेगा। (40, नागपुर)

परिवार की स्वीकृति और अस्वीकृति के प्रभाव

ट्रांसमर्दाना व्यक्तियों के मानसिक स्वास्थ्य और कल्याण पर परिवार की स्वीकृति का सकारात्मक प्रभाव पड़ा, इससे ट्रांजीशन प्रक्रिया आसान हो गयी, और उन्हें रिश्तेदारों और व्यापक समाज से अधिक स्वीकृति प्राप्त हुई। इसके विपरीत, परिवार की अस्वीकृति दूसरों से मिलने वाली अस्वीकृति और कलंकपूर्ण व्यवहार का कारण बनी और इसने ट्रांसमर्दाना व्यक्तियों के समग्र स्वास्थ्य और कल्याण पर नकारात्मक प्रभाव डाला। 

प्रतिभागियों ने कहा कि अपने परिवार का समर्थन रिश्तेदारों और समाज की व्यापक स्वीकृति की कुंजी है :

जब मुझे अपने बारे में पता चला तो सभी ने मेरा भरपूर साथ दिया। ट्रांजीशन के बाद, मेरे परिवार और गाँव वालों ने मुझे यह महसूस नहीं होने दिया कि मैंने जो किया है वह अलग है। सब पहले की तरह ही सम्मान से बोलते हैं। बल्कि मुझे पहले से ज्यादा सम्मान देते हैं। इसलिए, मुझे कोई नकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं मिली। शुरू में, जब सर्जरी कराई थी, तब कुछ बहस हुई थी लेकिन मुझे कोई समस्या नहीं हुई क्योंकि मेरे माता-पिता मेरा समर्थन कर रहे थे। (23, मुंबई, हिंदू, ओबीसी)

यदि आपके माता-पिता आपको स्वीकार नहीं करते हैं, तो आप समाज के बारे में क्या कर सकते हैं? वे कहेंगे कि तुम्हारे माता-पिता तुम्हारा समर्थन नहीं करते हैं। तुम हमसे समर्थन की उम्मीद क्यों करते हो जबकि जिन लोगों ने तुम्हे जन्म दिया है वे ही तुम्हारा समर्थन नहीं करते हैं? इससे मानसिक तनाव होता है। मुझे याद आता है कि कभी-कभी मुझे रात में ढंग से नींद नहीं आती थी।" (29, नागपुर, हिंदू, अनुसूचित जाति)

जैसा कि उपरोक्त प्रतिभागी दर्ज़ करते हैं, पारिवारिक अस्वीकृति बेहद तनावपूर्ण हो सकती है। दूसरी ओर, पारिवार की स्वीकृति से बेहतर मानसिक स्वास्थ्य और कल्याण को बढ़ावा मिला। प्रतिभागियों ने बताया कि परिवार के समर्थन ने उन्हें व्यापक समाज से मिलने वाले कलंक से निपटने की ताकत दी और उन्हें ट्रांजीशन प्रक्रिया से गुज़रने में मदद की।

मेरे लिए सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मेरे माता-पिता ने मुझे स्वीकार किया है, मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि समाज क्या कहता है। मेरे माता-पिता की स्वीकृति के कारण मेरा अवसाद बहुत कम हो गया है। मैं अभी भी दवा ले रहा हूं, लेकिन मुझे अब गंभीर अवसाद नहीं है। (23, दिल्ली, छात्र, मुस्लिम)

इसमें मेरी मां और मेरी बहन ने मेरा साथ दिया। मैं बहुत उदास और अकेला था, तभी मेरी बहनें मेरे पास आकर मेरे साथ बैठ गईं। उन्होंने मेरा ध्यान दूसरी तरफ करने की कोशिश की और मुझे खेलने, व्यायाम करने और नृत्य करने के लिए कहा। धीरे-धीरे मैंने अपने आप में सुधार महसूस किया। फिर मैंने योग शुरू किया और इससे मुझे बहुत मदद मिली।" (23, चुरू)

मेरा दूसरे नम्बर का भाई ने मेरा बहुत समर्थन किया। जब मैंने ट्रांजीशन शुरू किया तो उसने मेरी बहुत मदद की। उसने कहा, तुम ये करो, मैं तुम्हारे साथ हूं। (36, पुणे, हिंदू, एसटी)

ट्रांसमर्दाना लोगों द्वारा परिवार का समर्थन प्राप्त करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली रणनीतियाँ

प्रतिभागियों ने व्यक्तिगत रूप से इस्तेमाल की गयीं कुछ रणनीतियों को साझा किया जिससे उन्हें अपने परिवार के सदस्यों से स्वीकृति प्राप्त करने में मदद मिली। कुछ ने अपने परिवारों को ऑनलाइन वीडियो दिखाकर ट्रांसजेंडर लोगों और ट्रांजीशन प्रक्रिया प्रक्रिया के बारे में शिक्षित किया। इससे परिवार के सदस्यों को ट्रांसजेंडर पहचानों और ट्रांजीशन प्रक्रियाओं को बेहतर ढंग से समझने में मदद मिली।

जब मैंने 10वीं की पढ़ाई पूरी की, तो मैंने उन्हें घर पर ये बताया और उन्हें ट्रांसजेंडर लोगों के बारे में वीडियो दिखाये। उन्होंने वीडियो देखा और कहा ठीक है। (25, मुंबई, हिंदू, ओबीसी)

जब मैंने अपने परिवार से कहा कि मैं बदलना चाहता हूं और सर्जरी कराना चाहता हूं, तो उनकी प्रतिक्रिया न तो नकारात्मक थी और न ही सकारात्मक। वे चौंक गए और उन्होंने पूंछा कि क्या ऐसा होता है? इसलिए मैंने उनसे कहा कि ऐसा हो सकता है, और मैंने उन्हें सर्जरी का एक यूट्यूब वीडियो और ऐसा करने वाले लोगों को दिखाया। मैंने परिवार के सदस्यों के साथ खुद को सहज बनाया और उन्हें अपने फैसले के बारे में सकारात्मक बनाया। (26, ठाणे, हिंदू, ओबीसी)

ऑनलाइन वीडियो के अलावा, कुछ प्रतिभागियों को ट्रांस साथियों से मदद मिली जिन्होंने उनके परिवार के सदस्यों को ट्रांजीशन प्रक्रिया के बारे में बताया। ट्रांस साथियों के साथ सीधे संवाद करने से उन्हें ट्रांजीशन प्रक्रियाओं को समझने और उनकी सुरक्षा सम्बन्धी चिंताओं को दूर करने में मदद मिली।

मेरा एक पुराना दोस्त है जिसकी एक छोटी सी सर्जरी हुई थी। मैंने उसे घर आने और अपने माता-पिता से मिलने के लिए कहा। बाद में मां ने कहा ठीक है। उसने हमारे फैमिली डॉक्टर से बात की और उन्होंने भी इसे ठीक बताया। स्वास्थ्य को लेकर कोई दिक्कत नहीं है। बाद में परिवार ने अनुमति दे दी। (26, ठाणे, हिंदू, ओबीसी)

एक अन्य प्रतिभागी ने बताया कि उसके माता-पिता के लिए पेशेवर काउंसलिंग ने उन्हें उसे स्वीकार करने और उसके जेंडर की पुष्टि करने हेतु उसकी मदद करने के लिए प्रेरित किया :

डॉक्टर ने मेरे माता-पिता से आधे घंटे से एक घंटे तक बात की और इस बारे में समझाया, उसके बाद जब वे बाहर आए तो पहले मुझे सैलून ले गए, और मेरे बाल कटवाए. (26, कश्मीर, मुस्लिम)

प्रतिभागियों ने लंबी अवधि में समर्थन और स्वीकृति हासिल करने के लिए परिवार के सदस्यों के बीच खुले संवाद के महत्व पर प्रकाश डाला। प्रतिभागियों ने इस बात पर प्रकाश डाला कि माता-पिता के लिए उन्हें समझना और स्वीकार करना हमेशा आसान नहीं होता है, इसलिए ट्रांसमर्दाना व्यक्तियों और उनके माता-पिता दोनों के लिए संवाद महत्वपूर्ण है।

 मुझे लगता है कि अपने बच्चों को समझना माता-पिता की एक बड़ी जिम्मेदारी है। जब माता-पिता को अपने बच्चों को कुछ समझाने की ज़रूरत हो तो उन्हें समझाना चाहिए और जब वे कुछ पूछना चाहते हैं, तो उन्हें पूछना भी चाहिए। (27, दिल्ली, हिंदू)


निष्कर्ष और सिफारिशें

इस रिपोर्ट के निष्कर्ष पिछले शोध का समर्थन करते हैं जो दर्शाता है कि जीवन के हर चरण में ट्रांस और गैर-बाइनरी लोगों के कल्याण के लिए परिवार का समर्थन और स्वीकृति महत्वपूर्ण है। वे अन्य देशों में अपने साथियों की तुलना में भारत में ट्रांस पुरुषों और ट्रांसमैस्क्युलिन लोगों के पारिवारिक अनुभव के अनूठे पहलुओं को भी उजागर करते हैं। विशेष रूप से, बार- बार व्यक्त की गई एक भावना यह थी कि प्रतिभागियों की भलाई और ज़िन्दगी में आगे बढ़ने के सामर्थ्य के लिए परिवार की स्वीकृति सबसे महत्वपूर्ण कारक थी, जो माता-पिता, परिवारों और रिश्तेदारों के केंद्रीय सामाजिक महत्व को दर्शाती है। इसके विपरीत, परिवार के समर्थन की कमी ने ट्रांसमर्दाना लोगों की अपने जेंडर या ट्रांजीशन को ज़ाहिर करने के सामर्थ्य में रुकावट पैदा की, यहां तक कि वयस्कों के रूप में भी। यह उन तरीकों को प्रतिबिंबित कर सकता है कि जन्म के समय लड़कियों के रूप में माने गए बच्चों को प्रभावित करने वाले पितृसत्तात्मक लैंगिक मानदंडों के कारण ट्रांसमर्दाना लोगों के विकल्प और अवसर बाधित होते हैं। 

हमने यह भी पाया कि प्रतिभागी ज़रूरत पड़ने पर परिवार का समर्थन हासिल करने और ट्रांजीशन देखभाल तक पहुंचने के लिए तरीके खोजने में अनुकूलनीय और रचनात्मक थे। पिछले खंड में बताई गयी शैक्षिक और संवाद रणनीतियों के अलावा, प्रतिभागियों ने सामाजिक नीतियों और कार्यक्रमों के लिए सिफारिशें कीं, जो भारत में ट्रांसमर्दाना लोगों के लिए पारिवारिक स्वीकृति को बढ़ा सकती हैं। 

सिफारिशें
प्रतिभागियों ने सुझाव दिया कि बहुत से लोग ट्रांस होने का मतलब नहीं समझते हैं। इसलिए, ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के बारे में शिक्षा और जागरूकता महत्वपूर्ण है : हमें भी समर्थन देने और बाहर से प्रयास करने की ज़रूरत है क्योंकि वे ट्रांसपुरुषों के बारे में नहीं जानते हैं। उन्हें समझाना हमारी जिम्मेदारी है। कुछ माता-पिता नहीं समझते हैं, लेकिन मेरे माता- पिता मेरा समर्थन करते हैं। (26, ठाणे, हिंदू, ओबीसी) इसके लिए पहले जागरूकता पैदा करनी चाहिए। इसकी शुरुआत आपके घर से होनी चाहिए। (28, मुंबई, हिंदू, अनुसूचित जाति)
प्रतिभागियों ने व्यक्त किया कि उनके स्वयं के द्वारा और अन्य ट्रांस साथियों द्वारा पैरवी के साथ- साथ परिवार के सदस्यों के लिए परामर्श तक पहुंच महत्वपूर्ण है। हमारी काउंसलिंग के साथ-साथ माता-पिता की भी काउंसलिंग होनी चाहिए ताकि वे अपने बच्चों को इतना परेशान न करें, न उन्हें मारें और न ही उन्हें घर से बाहर निकालें, या उन्हें आत्महत्या के लिए मजबूर न करें । (40, नागपुर, हिन्दू)

भारत में ट्रांसमर्दाना स्वास्थ्य पर शोध दुर्लभ है, विशेष रूप से ऐसे शोध जो समुदाय-आधारित दृष्टिकोण अपनाते हैं। "ऑवर हेल्थ मैटर्स" इस अंतर को भरने और ट्रांसमर्दाना स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए प्रासंगिक जानकारी प्रदान करने का एक प्रयास है। इस शोध के माध्यम से, हमने ट्रांस पुरुषों के अनुभवों की जांच की जो उनकी जेंडर पहचान का खुलासा करने और उनके परिवारों के साथ ट्रांजीशन प्रक्रियाओं पर बातचीत करने से जुड़े थे। परिवार की स्वीकृति बढ़ाने के लिए आदर्श रणनीतियों की पहचान करने हेतु, परिवार के सिसजेंडर (गैर-ट्रांस) सदस्यों के परिप्रेक्ष्य को समझने के लिए गुणात्मक शोध काफी मूल्यवान होगा।

परिवार की शिक्षा और समर्थन के लिए कुछ संसाधन : ओरिनम : एक द्विभाषी वेबसाइट (तमिल और अंग्रेजी) जो चेन्नई स्थित सोशल-सपोर्ट्स-आर्ट्स-एडवोकेसी ग्रुप ओरिनम से जुड़ी है। इस वेबसाइट में एलजीबीटी समुदाय के सदस्यों के वीडियो, ब्लॉग, कविताएं और पॉडकास्ट के साथ-साथ वैकल्पिक यौनिकताओं और जेंडर पहचानों की जानकारी भी फीचर की जाती है। स्वीकार- द रेनबो पेरेंट्स : एलजीबीटीक्यू+ समुदाय के माता-पिता/ अभिभावकों द्वारा समुदाय की पैरवी करने और स्वीकृति को बढ़ावा देने के लिए गठित एक समूह।

1ट्रूजिलो एमए, पेरिन पीबी, सटर एम, तबैक ए, बेनोट्स ईजी। द बफरिंग रोल ऑफ सोशल सपोर्ट ऑन द एसोसिएशन्स अमंग डिस्क्रिमिनेशन, मेंटल हेल्थ, एंड स्युसाइडैलिटी इन अ ट्रांसजेंडर सैम्पल। इंट जे ट्रांसजेंड। 2017;18(1):39-52. doi:10.1080/15532739.2016.1247405

सिमंस, एल., श्रेजर, एस. एम., क्लार्क, एल. एफ., बेलज़र, एम., और ओल्सन, जे. (2013)। पैरंटल सपोर्ट एंड मेंटल हेल्थ अमंग ट्रांसजेंडर एडोलसेंट्स। जर्नल ऑफ एडोलसेंट हेल्थ : ऑफिशियल पब्लिकेशन ऑफ द सोसायटी फ़ॉर एडोलसेंट मेडिसिन, 53(6), 791–793. https://doi.org/10.1016/j.jadohealth.2013.07.019

चक्रपाणि वी, स्कीम एआई, न्यूमैन पीए, एवं अन्य। अफर्मिंग एंड निगोशिएटिंग जेंडर इन फैमिली एंड सोशल स्पेस : स्टिग्मा, मेंटल हेल्थ एंड रेज़िलेंस अमंग ट्रांसमैस्क्युलिन पीपुल इन इंडिया। कल्ट हेल्थ सेक्स । अप्रैल 13 को ऑनलाइन प्रकाशित, 2021:1-17. doi:10.1080/13691058.2021.1901991

4चक्रपाणि वी, धल पी। (2011)। फैमिली एक्सेपटेंस अमंग सेल्फ-आइडेंटिफाइड मेन व्हू हैव सेक्स विद मेन (एमएसएम) एंड ट्रांसजेंडर पीपुल इन इंडिया।